ek tathyatmik saty
Posted by: BeM - 03-19-2019, 12:11 PM - Forum: कला, पर्यटन, रोचक तथ्य व सूचनाएँ Arts, Travel, Interesting Facts & Information - No Replies

*दुध, दही, छाछ माखन, घी*
*सब एक ही कुल के हो कर भी*
*सबकी कीमत अलग अलग है*
              *क्योंकि*
*"श्रेष्ठता" जन्म से नही* *बल्कि अपने कर्म, अपनी कला,* *और अपने गुणोंं से प्राप्त हो जाती है!!*
  ???????
     Radhe Radhe
*।। सुप्रभात ..।।*

Print this item

  ek kahani
Posted by: BeM - 03-13-2019, 12:50 PM - Forum: कला, पर्यटन, रोचक तथ्य व सूचनाएँ Arts, Travel, Interesting Facts & Information - No Replies

*Must read*
         ?
आंख ने पेड़ पर फल देखा .. लालसा जगी..
आंख तो फल तोड़ नही सकती इसलिए पैर गए पेड़ के पास फल तोड़ने..
पैर तो फल तोड़ नही सकते इसलिए हाथों ने फल तोड़े और मुंह ने फल खाएं और वो फल पेट में गए.
अब देखिए जिसने देखा वो गया नही, जो गया उसने तोड़ा नही, जिसने तोड़ा उसने खाया नही, जिसने खाया उसने रक्खा नहीं क्योंकि वो पेट में गया
अब जब माली ने देखा तो डंडे पड़े पीठ पर जिसकी कोई गलती नहीं थी ।
लेकिन जब डंडे पड़े पीठ पर तो आंसू आये आंख में *क्योंकि सबसे पहले फल देखा था आंख ने*
*अब यही है कर्म का सिद्धान्त*

Print this item

Exclamation Popular Front of India (PFI- Radical Muslim Terror Organisation) Kills Hindu Who Denied Converting To Islam पोपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया नामक मुस्लिम आतंकवादी संगठन ने धर्म परिवर्तन कर इस्लाम में शामिल होने से मना करने पर हिन्दू युवक की पहले हाथ काट के ह्त्या की
Posted by: Devashish - 02-12-2019, 07:33 PM - Forum: राजनीति, वर्तमान घटनाक्रम व अनिर्धारित श्रेणी Politics, Current Affairs & Uncategorised Section - No Replies

Popular Front of India (PFI- Radical Muslim Terror Organisation) Kills Hindu Who Denied Converting To Islam पोपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया नामक मुस्लिम आतंकवादी संगठन ने धर्म परिवर्तन कर इस्लाम में शामिल होने से मना करने पर हिन्दू युवक की पहले हाथ काट के फिर ह्त्या कर दी. अभी तक पाँच लोगों के विरुद्ध पुलिस में शिकायत लिखी गयी है, ज्ञातव्य है कि बहुत से लोगों की भीड़ के साथ इस कार्य को रात में १०:३० से ११:०० बजे के बीच अंजाम दिया गया है. श्री रामलिंगम नामक व्यक्ति ने तर्क कर कहा की यदि वो इस्लाम का आदर करते हैं और ऐसा कहते हुए उन्होंने मुस्लिम टोपी भी पहनी और फिर बोले कि यदि वो इस्लामिक टोपी पहन सकते हैं एवं दूसरे के मज़हब के प्रति  सहिष्णुता रखते हैं, तो वो मुस्लिम जो उन्हें उनका धर्म त्याग करके, दूसरा मज़हब स्वीकारने को बोल रहे हैं, वो भी सहिष्णु होकर उनका तिलक क्यूँ नहीं लगा सकते? इस पर उस समय तो तर्क में स्वयं को हारते देख, वो लोग वहाँ से चले गए, लेकिन रात के अँधेरे में मुस्लिम भीड़ आई और रामलिंगम के घर में घुस कर उनका हाथ काट दिया और फिर तडपा-तडपा का उनकी ह्त्या कर दी और चिल्लाते पाए गए की वो रामलिंगम को एक उदाहरण के रूप में सबके सामने रख रहे हैं.




Print this item

  sahanshakti
Posted by: BeM - 08-22-2018, 03:22 PM - Forum: कला, पर्यटन, रोचक तथ्य व सूचनाएँ Arts, Travel, Interesting Facts & Information - No Replies

*गुस्सा*            
बंद दुकान में कहीं से घूमता फिरता एक सांप घुस गया। दुकान में रखी एक आरी से टकराकर सांप मामूली सा जख्मी हो गया।

घबराहट में सांप ने पलट कर आरी पर पूरी ताक़त से डंक मार दिया जिस कारण उसके मुंह से खून बहना शुरू हो गया।

अब की बार सांप ने अपने व्यवहार के अनुसार आरी से लिपट कर उसे जकड़ कर और दम घोंट कर मारने की पूरी कोशिश कर डाली।

अब सांप अपने गुस्से की वजह से बुरी तरह घायल हो गया।

दूसरे दिन जब दुकानदार ने दुकान खोली तो सांप को आरी से लिपटा मरा हुआ पाया जो किसी और कारण से नहीं केवल अपनी तैश और गुस्से की भेंट चढ़ गया था।

*कभी कभी गुस्से में हम दूसरों को हानि पहुंचाने की कोशिश करते हैं मगर समय बीतने के बाद हमें पता चलता है कि हमने अपने आप का ज्यादा नुकसान किया है।*

*अब इस कहानी का सार ये है कि*

अच्छी जिंदगी के लिए कभी कभी हमें,
कुछ चीजों को,
कुछ लोगों को,
कुछ घटनाओं को,
कुछ कामों को और
कुछ बातों को
इग्नोर करना चाहिए।

*अपने आपको मानसिक मजबूती के साथ इग्नोर करने का आदी बनाइये।*

*जरूरी नहीं कि हम हर एक्शन का एक रिएक्शन दिखाएं।*

हमारे कुछ रिएक्शन हमें केवल नुकसान ही नहीं पहुंचाएंगे बल्कि हो सकता है कि हमारी जान ही ले लें।

*सबसे बड़ी शक्ति सहन शक्ति है।*

Print this item

Thumbs Up मुत्तहिदा कौमी मूवमेंट पाकिस्तान MQM pakistan ने पाकिस्तानी चुनावों (२०१८ केंद्र सर्वकार पाकिस्तान) का बहिष्कार किया MQM pakistan boycotts sham election in pakistan (2018 for central goverment pakistan)
Posted by: Devashish - 07-24-2018, 09:46 AM - Forum: राजनीति, वर्तमान घटनाक्रम व अनिर्धारित श्रेणी Politics, Current Affairs & Uncategorised Section - No Replies



Print this item

Lightbulb Acute Cholecystitis एक्यूट कोलेसिस्टाइटिस
Posted by: Devashish - 06-29-2018, 08:49 PM - Forum: स्वाथ्य विज्ञान Health Science - No Replies

Acute Cholecystitis एक्यूट कोलेसिस्टाइटिस


Print this item

  Kashmir- Present Status, Real History कश्मीर वर्तमान स्थिति व वास्तविक इतिहास
Posted by: Devashish - 06-29-2018, 05:24 PM - Forum: राजनीति, वर्तमान घटनाक्रम व अनिर्धारित श्रेणी Politics, Current Affairs & Uncategorised Section - No Replies

The video describes political situation in Kashmir, its causes, current status, political plight of India, its issues and need to take effective actions with due vigilance. It also alerts about the drain of meritorious students from India, further dividing caste-lines, communist-islamists nexus and their agenda of breaking India and killing the Greatest Civilisation on Earth. 

प्रस्तुत चलचित्र कश्मीर में वर्तमान राजनैतिक परिस्थिति, अमरनाथ यात्रा और भारतीय राजनीति की अभी की चुनौतियों, उनके निवारण हेतु लिए जाने वाले आवश्यक कदमों व भारत में अन्याय के कारण बाहर जा रहे गुणवान विद्यार्थियों की ओर घ्यान आकृष्ट करता है, और बतलाता है कि ऐसी परिस्थितियाँ राष्ट्र में जातीय वैमनस्य बढ़ा कर, विकृत साम्यवादी (कम्युनिस्ट) और इस्लामिक शक्तियों की मिली भगत को बढ़ावा देकर हमारे प्रिय राष्ट्र को भंग करने के उनके कुत्सित प्रयासों को सहायता दे सकती हैं. अतः राष्ट्रप्रेमी जनों को एकत्र हो इस सम्बन्ध में जागरूक रहकर देशसेवा में ध्यान लगाना चाहिए.




Print this item

  Achalasia Cardia अकेलेसिया कार्डिया
Posted by: Devashish - 06-27-2018, 02:04 PM - Forum: स्वाथ्य विज्ञान Health Science - No Replies

Ahalasia Cardia- Medical educational video. Definition, symptoms, signs, diagnosis and treatment.
अकेलेसिया कार्डिया- चिकित्सा-शास्त्र सम्बंधित चलचित्र. परिभाषा, लक्षण, निदान एवं उपचार.



Print this item

  ek kavita एक कविता
Posted by: BeM - 06-26-2018, 02:34 PM - Forum: कला, पर्यटन, रोचक तथ्य व सूचनाएँ Arts, Travel, Interesting Facts & Information - No Replies

?
*:::बहुत सुंदर मार्मिक ह्रदयस्पर्शी कविता:::*

*।। कोई अर्थ नहीं।।*


नित जीवन के संघर्षों से
जब टूट चुका हो अन्तर्मन,
तब सुख के मिले समन्दर का
*रह जाता कोई अर्थ नहीं*।।

     जब फसल सूख कर जल के बिन
     तिनका -तिनका बन गिर जाये,
     फिर होने वाली वर्षा का
     *रह जाता कोई अर्थ नहीं।।*

सम्बन्ध कोई भी हों लेकिन
यदि दुःख में साथ न दें अपना,
फिर सुख में उन सम्बन्धों का
*रह जाता कोई अर्थ नहीं।।*

     छोटी-छोटी खुशियों के क्षण
     निकले जाते हैं रोज़ जहाँ,
     फिर सुख की नित्य प्रतीक्षा का
     *रह जाता कोई अर्थ नहीं।।*

मन कटुवाणी से आहत हो
भीतर तक छलनी हो जाये,
फिर बाद कहे प्रिय वचनों का
*रह जाता कोई अर्थ नहीं।।*

     सुख-साधन चाहे जितने हों
     पर काया रोगों का घर हो,
     फिर उन अगनित सुविधाओं का
     *रह जाता कोई अर्थ नहीं।।*

*~~राष्ट्रकवि श्री रामधारी सिंह दिनकर*
?

Print this item

Lightbulb Bhaarat Maata: Concept and Relevance भारत माता- अवधारणा व प्रासंगिकता
Posted by: Devashish - 06-23-2018, 08:50 PM - Forum: राजनीति, वर्तमान घटनाक्रम व अनिर्धारित श्रेणी Politics, Current Affairs & Uncategorised Section - No Replies

In the densely connected world, where political science jostles to define various forms of polities and political concepts, as always, the Indians for time immemorial,  have been preserving the essence of “Vasudhaiv Kutumbkam” (The world is one family), in the form of the Mother Goddess “Bhaarat Maa” “भारत माँ”. In the world torn apart by war and misery, such a philosophical polity may direct the humanity to peace and prosperity. With the aim of the same, I am trying my bit to spread the idea while alarming Indians not to lose their spiritual heritage rather try preserve and enhance it while sharing it with everyone else. 

          संघनित जुड़े हुए संसार में, जहाँ राजनीती-शास्त्र भाँति-भाँति की राजनीतियों एवं राजनैतिक अवधारणाओं को परिभाषित करने हेतु संघर्षरत है, वहीं सदैव की भाँति भारतवासी अनंतकाल से वसुधैव कुटुम्बकम् की भावना को समाये, भारत माँ को पूजते और सहेजे हुए हैं. कदाचित् हिंसा व दुःख से अटे पड़े इस विश्व को, ऐसे राजनैतिक दर्शन की अवधारणा, शान्ति और समृद्धि की ओर ले जाये, और साथ ही साथ, चेताते हुए निवेदन कि भारतवासी भी अपनी आध्यात्मिक सम्पदा को सहेजें एवं उसका आगे विकास कर अन्यों के साथ भी साझा करें, ऐसे विश्वास को लेकर, यह चलचित्र मेरा सूक्ष्म प्रयास है.



Print this item