Thread Rating:
  • 0 Vote(s) - 0 Average
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5
[-]
प्रायोजक Sponsors

Ek Saty
#1
एक दिन
सुखा दी जाएंगी
सारी नदियाँ
या फिर
कर दी जाएंगी तब्दील
नालियों में ।
एक दिन
सजा दिए जाएंगे
सारे पेड़
गगनचुम्बी
इमारतों की
बैठकों में
या शयनकक्षों में ।
बस उसी एक दिन
खो बैठेगा मानव
टिटहरी का नाद,
झींगुर का गीत
और जंगल का संगीत
ओ मानव!
प्रकृति के
वास्तविक उत्तराधिकारी हैं
पशु-पक्षी, कीट-पतंगे ।
तकनीक और
सामर्थ्य के बल पर
तुम बसा तो
सकते हो
अति आधुनिक बस्तियां
मगर बच नहीं सकते
प्रकृति के वास्तविक
उत्तराधिकारियों के
रोष से ।
इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है
अतिशय शांतिप्रिय
गजराज का बढ़ता क्रोध
जो कर रहा है ध्वस्त
मानव बस्तियों को निरंतर ।
ओ मानव!
विकास की जिस
दौड़ को
आरंभ किया है तुमने
उसका अंत करेगी प्रकृति ।
जानते हो क्यों?
क्योंकि तुम्हारी तकनीक
या तथाकथित विकास
निरंतर अग्रगामी है
इसके विपरीत प्रकृति
स्थिरता प्रिय है
जिसे प्रिय है
स्वयं से संबद्ध
सूक्ष्म से सूक्ष्म अवयव ।
ओ मानव!
याद करो वो सुनामी
जिसने बरपाया
था क़हर
मानव सभ्यता पर
मगर साथ ही साथ
ये भी याद रखना
उस सुनामी में
हताहत न हुआ था
कोई पशु-पक्षी या
कीट-पतंगा
Reply


Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
[-]
नूतन सामग्री Recent Stuff
Old coinage & currency terms पुरानी सिक्...
Last Post: BeM
08-07-2017 08:24 PM
» Replies: 0
» Views: 3424
पाश्चात्य जनों का सनातन धर्मं की ओर झुका...
Last Post: Devashish
07-24-2017 09:17 AM
» Replies: 0
» Views: 253
MAHARANAPRATAP
Last Post: Devashish
05-29-2017 11:54 PM
» Replies: 1
» Views: 7494
Ek Saty
Last Post: BeM
05-10-2017 08:48 AM
» Replies: 0
» Views: 3765
ek din
Last Post: BeM
04-16-2017 10:38 AM
» Replies: 0
» Views: 454
jankarri
Last Post: BeM
04-07-2017 12:04 AM
» Replies: 0
» Views: 1550
sunder prasang
Last Post: BeM
04-04-2017 12:28 AM
» Replies: 0
» Views: 1619